Search
  • Samphia Foundation

On a Special Education Journey- Kunta Kaundal

मेरा नाम कुन्ता देवी हैं । मैं आश चाइल्ड डेवलपमेंट सेंटर कुल्लू में विशेष शिक्षिका के रूप में कार्य कर रही हूँ । मुझे इस क्षेत्र में कार्य करते हुए 1 साल पूरा हो गया है।



शुरुआत में बच्चों के साथ कार्य करने में बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा । जैसे बच्चे कितना समझते है, किस तरह से समझते है, वे क्या सोचते है, क्या मै बच्चों को समझा पाती हू ? या नहीं। इस तरह की बहुत सी बातें दिमाग में घूमती रहती थी ।

समय के साथ-साथ बच्चों को जानने का मौका मिलता रहा। अन्य अध्यापको की सहायता से मुझे कार्य को समझाया जाता था कि किस तरह से बच्चों के साथ गतिविधियां करनी है और इन गतिविधियों से बच्चे का कौन सा विकास होगा ।

इस तरह से धीरे-धीरे मुझे बहुत कुछ सिखने को मिला। जितना बच्चों के साथ कार्य करती रही उतना ही बच्चों को और उनकी समस्याओं को जानने का अनुभव होता रहा। समय-समय पर मिले प्रशिक्षण से बहुत सहायता मिली और बहुत कुछ सीखने को मिला ।

अब बच्चों के प्रति अपनी जिम्मेदारियां महसूस होती है मुझे अपना कार्य किसी एक बच्चे के लिये नहीं, ब्लकि सभी बच्चों के लिये कार्य करना है । तभी मेरा लक्ष्य पूरा होगा। आज यह सोचकर बहुत खुशी होती है कि मैं इस विषेश शिक्षा का एक हिस्सा हूँ।

आज जब मुझसे ये पूछा जाता है कि आप क्या करते हो? तो मुझे बहुत खुशी होती है कि मैं उन बच्चों के लिए कार्य करती हूँ जिन्हें हमारी आवश्कता है। जिस तरह डॉक्टर, पुलिस अधिकारी और अन्य अधिकारी अपने कार्य को करते है उसी तरह हम भी विशेष शिक्षा में बच्चों के लिये अपना कार्य कर रहे हैं।


15 views0 comments